फुटबॉल कैसे जीत सकता है

फुटबॉल कैसे जीत सकता है

time:2021-10-20 23:34:30 ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस Views:4591

नियम वर्तमान पूर्ण काल फुटबॉल कैसे जीत सकता है 188bet पेंटिप,casumo ज़हल्ट निक्ट औस,lovebet 2 टीम परले,एंड्रॉइड के लिए lovebet,lovebet पंजीकरण लिंक,lovebetी द विंडी गोरिल्ला,बैकारेट 3 टियर स्टीमर,baccarat là gì,सर्वश्रेष्ठ 3 रील स्लॉट,भ पोकर क्लब,कैसीनो फ्रांस,चा फुटबॉल मैदान,क्रिकेट 3डी छवि,क्रिकेट स्कोर लाइव भारत बनाम इंग्लैंड,एस्पोर्ट्स लाउंज,फुटबॉल 2021 विश्व कप,फुटबॉल वेबसाइट स्पीड टेस्ट,ज्ञान फुटबॉल,जीतने के लिए बैकारेट कैसे खेलें,क्या बैकरेट ऑनलाइन खेलना सुरक्षित है,जंगल रम्मी अनलॉक,लाइव कैसीनो लाइटनिंग रूले,लॉटरी ड्रा इतिहास,लूडो लूडो,ओडिबेट्स भविष्यवाणियां,जोड़ों के लिए ऑनलाइन खेल,ऑनलाइन असली पैसे वाले जुआ खेल,परिमाच द्वारा,पोकर क्यू एस,रॉबर्ट की क्रिकेट बुक,रम्मी 2 इक्का राजा,रम्मीकल्चर जोकर,स्लॉट मशीन.us.freefiremobile,खेल फुटबॉल लाइव यूरोपीय कप,स्टैंड-अलोन बेटिंग गेम,सबसे अच्छा बोर्ड गेम,यूईएफए चैंपियंस लीग अंक,जो कैश गेम के लिए बेहतर है,21 बजे url,ऑनलाइन पैसे बनाएं lg,क्रिकेट की भविष्यवाणी करो google,गोवा लोकसभा सीट कितनी है,तीन पत्ती लकड़ी,बकरी योजना,बैटरी है,स्टेटस एटीट्यूड, .ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस

ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.
ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे अहम समय यानी पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. लेकिन अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है. अब ये कंपनियां मूल किराए के डेढ़ गुने से अधिक किराया नहीं वसूल सकेंगी.

दरअसल सरकार का यह कदम अहम इसलिए भी हो जाता है, क्योंकि लोग कैब सेवाएं देने वाली कंपनियों के अधिकतम किराए पर लगाम लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे. यह पहली बार है जब भारत में ओला और उबर जैसे कैब एग्रीगेटर्स को रेग्यूलेट करने के लिए सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं.

कार पूल करने वाले कमर्शियल प्लेटफॉर्म्स को भी नियमों का पालन करना होगा और इस लाइसेंस हालिस करना होगा. हालांकि, नए नियम तभी लागू होंगे, जब राज्य सरकारें उनसे जुड़ी अधिसूचना जारी करेंगे.

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन का जायजा लेने पीएम मोदी पहुंचे अहमदाबाद, पुणे व हैदराबाद भी जाएंगे

कैब कंपनियों को डेटा स्थानीयकरण सुनिश्चित करना होगा कि डेटा भारतीय सर्वर में न्यूनतम तीन महीने और अधिकतम चार महीने उस तारीख से संग्रहीत किया जाए, जिस दिन डेटा जेनरेट किया गया था.

डेटा को भारत सरकार के कानून के अनुसार सुलभ बनाना होगा लेकिन ग्राहकों के डेटा को यूजर्स की सहमति के बिना शेयर नहीं किया जाएगा. कैब एग्रीगेटर्स को एक 24x7 कंट्रोल रूम स्थापित करना होगा और सभी ड्राइवरों को अनिवार्य रूप से हर समय कंट्रोल रूम से जुड़ा होना होग.

नए नियमों के मुताबिक, कैब कंपनी को बेस फेयर से 50 फीसदी कम चार्ज करने की अनुमति होगी. केंद्र सरकार ने एग्रीगेटर को रेगुलेट करने के लिए गाइडलाइन्स जारी किया है जिसका राज्य सरकारों को भी पालन करना अनिवार्य होगा.

वहीं, कैंसिलेशन फीस कुल किराए का दस प्रतिशत होगा, जो राइडर और ड्राइवर दोनों के लिए 100 रुपए से अधिक नहीं हो सकता. ड्राइवर को अब ड्राइव करने पर 80 फीसदी किराया मिलेगा, जबकि कंपनी को 20 प्रतिशत किराया ही मिल सकेगा.

मंत्रालय ने बयान में कहा है कि इससे पहले एग्रीगेटर का रेगुलेशन उपलब्ध नहीं था। अब इस नियम को ग्राहकों की सुरक्षा और ड्राइवर के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है जिसे सभी राज्यों में लागू किया जाएगा. बता दें कि मोटर व्हीकल 1988 को मोटर व्हीकल एक्ट, 2019 से संशोधित किया गया है.



हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

केंद्र सरकारमोटर व्हीकल एक्टराज्य सरकारकैब एग्रीगेटर्सटैक्सीओलाकैब कंपनियांउबर

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

लग्जरी ऑटोमोबाइल कंपनी बीएमडब्ल्यू ने नई 2021 आर नाइनटी पेश की है. यह सुपरबाइक चार वैरियंट- स्टैंडर्ड, प्योर, स्क्रैम्बलर और अर्बन जीएस में उपलब्ध है. ये बाइक्स अलग-अलग कलर कॉम्बिनेशन में हैं.इन मॉडल्स में अर्बन जीएस अल्पाइन वाइट के साथ टेप, ब्लैकस्टॉर्म मेटालिक/रेसिंग रेड और 40 साल का जीएस वर्जन भी उपलब्ध है. अन्य तीन मॉडल स्टैंडरड ग्रे मैट मेटालिक कलर में हैं.बुधवार को देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने भी अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान किया था. कीमतों में यह बढ़ोतरी जनवरी से लागू होगी.इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

युवा खासतौर से डायमंड ज्‍वेलरी खरीदने में दिलचस्‍पी लेते हैं. 10,000-20,000 रुपये की रेंज में लो प्राइस डायमंड ज्‍वेलरी के खासतौर से अच्‍छा करने की उम्‍मीद है.मारुति सुजुकी इंडिया, फोर्ड इंडिया और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी वाहन कंपनियां भी जनवरी से अपने वाहनों के दाम में बढ़ोतरी की घोषणा कर चुकी हैं.फ्रैंकलिन टेम्पलटन के निवेशकों को इस हफ्ते मिलेंगे 2,962 करोड़ रुपये

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.अपने घर के लिए अगर आप एयर प्यूरिफायर खरीदने जा रहे हैं तो कुछ बातों को जान लेना जरूरी है. यहां हम उन्हीं के बारे में बता रहे हैं.फोर्ड की कारें होंगी महंगी, जनवरी से बढ़ेंगे दाम

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
बैकारेट वीडियो कैसे चलाएं

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.

तेलंगाना में क्लासिक रम्मी

ऑडी इंडिया ने इस साल घरेलू बाजार में क्यू8, ए8 एल, आरएस 7 स्पोर्टबैक, आरएस क्यू8, क्यू8 सेलिब्रेशन और क्यू2 मॉडल पेश किए हैं.

betway नया संस्करण

बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.

क्रिकेट दृश्य ध्वनि मेल

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.

lovebet वाई.बी दानışमानलिक

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी