lovebet सत्यापन

lovebet सत्यापन

time:2021-10-21 01:37:04 लंबी अवधि में जमा के लिए पोस्ट ऑफिस का रुख कर रहे हैं निवेशक Views:4591

क्रिकेट 07 APK lovebet सत्यापन 188bet अंग्रेजी,casumo प्रोमो कोड,lovebet 088,lovebet और कानूनी एम पुर्तगाल,lovebet फोन नंबर भारत,lovebet2 कारक प्रमाणीकरण अक्षम,आधिकारिक सट्टेबाजी एजेंसी,बैकरेट उच्च जीत दर खेल,बैकारेट यसली,सट्टेबाजी की रणनीति अनुसंधान नेटवर्क,कैसीनो डेज कस्टमर केयर नंबर,कैसीनो ज़ोंबी फिल्म,कॉमोन बेट बोनस कोड,क्रिकेट की उत्पत्ति किस देश में हुई?,निर्यात डिजाइन,फीविन,फ़ुटबॉल एकल मैच परिणाम,जिन रम्मी फजी मोबाइल गेम्स,फुटबॉल कैश नेट कैसे खोजें,आईपीएल बनाम पीएसएल,जोकर १८८बेट,लाइव कैसीनो विकास,लॉटरी 9 तारीख,लूडो पैसे कमाओ,एनजे लॉटरी पोस्ट,ऑनलाइन जुआ खेल मंच मछली पकड़ना,ऑनलाइन पोकर टेक्सास होल्डम,परिमच प्रोमो कोड,पोकर mp40 फ्री फायर हैक,प्रतिष्ठित सट्टेबाजी मंच,उस पर शासन करो,रम्मीकल्चर बैंगलोर,स्लॉट मशीन ध्वनि प्रभाव,खेल भी,स्पोर्ट्सबुक टिवर्टन,मेरे पास टेक्सास होल्डम टूर्नामेंट,आप फुटबॉल जीएम रोस्टर,ऑनलाइन बैकारेट कहां खेलें,जेड पोकर,ऑनलाइन जुआ lyrics in hindi,क्रिकेट sharechat,गोवा धूप,तीन पत्ती गेम कैसे डाउनलोड करें,बकरा पालन,बैकरेट जीतता है,शीर्ष दस केसिनो, .लंबी अवधि में जमा के लिए पोस्ट ऑफिस का रुख कर रहे हैं निवेशक

पोस्ट ऑफिस प्रोडक्ट बैंकों में जमा से 130-150 बेसिस अंक अधिक ब्याज दे रहे हैं. इनमें न्यूनतम निवेश 1,000 रुपये से शुरू होता है और 100 रुपये के गुणक में इसे बढ़ाया जा सकता है.
बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. उनकी दिलचस्पी डाकघर की बचत योजनाओं में बढ़ी है क्योंकि वे बेहतर रिटर्न प्रदान कर रही हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. बैंकों में जमा की तुलना में ये स्कीमें आकर्षक नजर आती हैं.

वित्तीय प्लानर्स का मानना है कि यह कुछ ही समय की बात है. जल्द की इन स्कीमों की ब्याज दरें भी कम होने वाली हैं क्योंकि अभी ब्याज दरें काफी निचले स्तरों पर हैं. रक्षात्मक निवेशकों को इस अवसर का फायदा उठाना चाहिए और अधिक ब्याज दरों पर 5-10 साल के लिए पैसा डाल देना चाहिए.

मुंबई के फाइनेंशियल डिस्‍ट्रीब्‍यूटर विनायक कुलकर्णी ने कहा, "ब्याज दरें नीचे की तरफ जा रही हैं और जल्द की इसका असर छोटी बचत योजनाओं पर भी नजर आएगा. जो निवेशक सरल प्रोडक्ट्स की तलाश कर रहे हैं, जो अधिक ब्याज दर दे रहे हों, इस मौके का फायदा उठा सकते हैं."

इसे भी पढ़ें: स्पुतनिक-वी के चलते इस फार्मा कंपनी के शेयरों ने लगाई 20% की छलांग

कई पोस्ट ऑफिस प्रोडक्ट बैंकों में जमा से 130-150 बेसिस अंक अधिक ब्याज दे रहे हैं. इन स्कीमों में न्यूनतम निवेश 1,000 रुपये से शुरू होता है और 100 रुपये के गुणक में इसे बढ़ाया जा सकता है. इनके लिए कोई ऊपरी सीमा नहीं है. इसका रिटर्न सीमित रहता है.

एसबीआई में 5-10 साल की एफडी पर निवेशकों को 5.4 फीसदा का ब्याज मिलता है. पोस्ट ऑफिस में जमा पर निवेशकों को 6.7 फीसदी ब्याज मिलता है. नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) पर 6.8 फीसदी का ब्याज मिलता है, जबकि किसान विकास पत्र 6.9 फीसदी की दर से 124 महीनों में पैसा दोगुना कर देता है.

सेबी पंजीकृत निवेश सलाहकार जितेंद्र सोलंकी ने कहा, "कई पोस्ट ऑफिस प्रोडक्ट बैंक एफडी से अधिक ब्याज देते हैं. सरकारी की गारंटी होने के चलते क्वालिटी से कोई समझौता नहीं है. नियमित आय के लिए यह बढ़िया बचत विकल्प है." सोलंकी के अनुसार, इस तरह के प्रोडक्ट्स समझने में आसान होते हैं.

इसे भी पढ़ें: मैक्रोटेक डेवलपर्स का आईपीओ 7 अप्रैल को खुलेगा, जानिए इश्यू की हर जानकारी

वित्तीय प्लानर्स का मानना है कि डीएचएफएल व आईएलएएंडएस द्वारा डिफॉल्ट और फ्रैंकलिन द्वारा छह डेट म्यूचुअल फंड स्कीमों को बंद करने से कई नियमित आय के साधनों में निवेश करने वाले निवेशकों को झटका लगा है. अब वे सरल प्रोडक्ट्स की तलाश कर रहे हैं.

पोस्ट ऑफिस के प्रोडक्ट ऐसे निवेशकों के लिए मुफीद हैं, जो लिक्विडिटी नहीं चाहते और पांच साल तक के लिए पैसा लगाने के लिए तैयार हैं. निवेशकों को अपने टैक्स ब्रैकेट के आधार पर ही पैसा डालना चाहिए.




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

पोस्ट ऑफिस डिपोजिटबैंक एफडीएसबीआईनेशनल सेविंग सर्टिफिकेटकिसान विकास पत्रशेयर बाजारभारतीय डाकघरभारतीय स्टेट बैंक

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.कितनी सेफ है आपकी जॉब? खतरों के इन 7 संकेतों के बारे में जान लें

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
करीना यूट्यूब

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

कैसीनो 1995 बॉक्स ऑफिस

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

जोकर शायरी डाउनलोड

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

रम्मी रोली

डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.

ऑनलाइन पोकर मनी

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी